Menu

प्रखंड शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान(बाईट),दरियापुर,पूर्वी चम्पारण

(Education Department,Government of Bihar)

 

नामांकन  2019-21  

तृतीय चयन सूची से नामांकन दिनांक-08 और 09 जुलाई 2019 को...............सूचना और निर्देश यहाँ देखें.

तृतीय चयन सूची(Arts & Commerce)                       तृतीय चयन सूची(Science)

 

दूसरी चयन सूची (Counselling के उपरांत ) से नामांकन दिनांक-03 और 04 जुलाई 2019 को ............सूचना और निर्देश यहाँ देखें.

        दूसरी चयन सूची (Arts & Commerce )                                                            दूसरी चयन सूची (Science )   

 

                                                                                                         Counselling के उपरांत अंतिम मेधा सूची

      Arts & Commerce                                    Science                 Urdu Arts                  Urdu Science

प्रखंड शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान(बाईट),दरियापुर,पूर्वी चम्पारण

प्रखंड शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान(बाईट​),दरियापुर,पूर्वी चम्पारण बिहार सरकार के शिक्षा विभाग द्वारा संचालित शिक्षक प्रशिक्षण संस्थान है जिसे  NCTE  द्वारा प्रतिवर्ष 100 सीटों पर नामांकन की अनुमति प्राप्त है.......मान्यता संबंधी पत्र.

नामांकन  2019-21

 

 सत्र 2019-21 में नामांकन हेतु सूचना..........click here

Quick Links
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
  • Home
  • About Us
  • Faculty
  • Trainee Parliament
  • Events & Activities
  • Gallery
  • Admission
  • Form & Downloads
  • Academic Calender
  • About Courses/Syllabus
  • Important links
  • Contact Us

 

Departmental Links

Research and Training

Education Department,Bihar

NCTE

NCTE (Eastern Region Committee, Bhubaneshwar)

D.El.Ed(ODL)

 

लक्ष्य:
प्रशिक्षु शिक्षकों की भाषिक निपुणता को समृद्ध करना
चर्चा-परिचर्चा/गतिविधि/समूह कार्य/परियोजना आधारित सैद्धांतिक कक्षा का व्यावहारिकता से तारतम्य स्थापित करनाविद्यालय संपर्क कार्यक्रम में प्रशिक्षुओं द्वारा शिक्षण-अभ्यास के साथ-साथ विद्यालय की समग्र गतिविधि में सक्रिय भागीदारी
शोध एवं नवाचार का उपयोग
प्रशिक्षुओं के अनुभवों को प्रतिबिंबित करने का अवसर प्रदान कर

विजन:

राष्ट्रीय ज्ञान आयोग की सिफारिशों के अनुसार "एक पेशे के रूप में स्कूल शिक्षण की गरिमा को बहाल करना" तथा "योग्य एवं समर्पित शिक्षकों को अधिकाधिक प्रोत्साहित करना" आवश्यक है |
एनसीएफ 2005 एवं आरटीई एक्ट 2009 के आधार पर विकसित एनसीएफटीई 2009 की अनुशंसाओ के अनुसार बिहार राज्य के लिए "मानवीय गुणों से परिपूर्ण एक कुशल व्यवसायिक शिक्षक" तैयार करना जहाँ समवेशि शिक्षा, समान और सतत विकास का दृष्टिकोण, सामुदायिक ज्ञान की भूमिका, विद्यालयों के अंतर्गत ई लर्निंग के साथ साथ सुचना संचार प्रौद्योगिकी के उपयोग की महत्वपूर्ण भूमिका होगी | प्रशिक्षु शिक्षकों एवं नियमित शिक्षकों द्वारा पाठ्यचर्चा की समीक्षा, पाठ्यक्रम एवं पाठ्यपुस्तकों का परीक्षण |